Latest News

सूरत-ए-हाल पंजाब पुलिस: गुप्ता राज में नहीं मिल रहा गुप्ता परिवार को इंसाफ, पढ़िए मामला

By राजेश कपिल/जालंधर

Published on 08 Jun, 2019 12:26 PM.

राजेश कपिल/जालंधर। पंजाब में इन दिनों पुलिस के अंदर गुप्ता राज है क्योंकि राज्य के डीजीपी इन दिनों दिनकर गुुप्ता हैं। वैसे तो इंसाफ पाने का हक सबका समान है लेकिन फिर भी त्वरित न्याय मिले यह हक गुप्ता केटेगरी का सहज ही महसूस होता होगा। मगर यह क्या? जालंधर में एक गुप्ता परिवार आज भी इंसाफ की राह देख रहा है। यूं कहे कि गुप्ता राज में गुप्ता परिवार को नहीं मिल रहा इंसाफ तो गलत न होगा। दरअसल मामला जालंधर के एक गुप्ता परिवार के युवा बेटे मुकुल गुप्ता की सुसाइड का है। जवान बेटा अचानक विलीन हो गया। परिवार बिलखता फिर रहा है। बेटा तो नहीं रहा लेकिन उसको ऐसा करने के लिए मजबूर करने वालों को दंड को मिले, यह दरकार लिए परिवार वाले पुलिस की चौखटें रगड़ रहे हैं। परिवार खुल कर बोल चुका है कि सुसाइड करने वाला बेटा गर्लफ्रैंड तथा उसके भाई की धमकियों से परेशान था लेकिन पुलिस ने उस दिशा में आज तक कोई कदम नहीं बढ़ाया है।

 

सिटी पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल इसलिए क्योंकि फाइनांसरों व अन्य सुसाइड मामलों में तत्काल एफआईआर दर्ज कर ली जाती है, क्योंकि फाइनांसरों के यहां रेड करने पर पुलिस वालों को कैश लूटने का मौका मिल जाता है। जमानतों के समय जेबें गर्म होती है। जांचों के नाम पर सेवा-पानी करवाया जाता है लेकिन इस लव एंगल में पुलिस को क्या मिलना है। शायद, यही कारण है कि पुलिस इग्नोर मार रही है। पुलिस का रवैया वैसे भी यही होता जा रहा है कि जहां से माल मिलना होता है, उसी तरफ कदम बढ़ाती है। या फिर ऊपर से कोई ऐसा डंडा चले जिससे नौकरी पर आंच आए, तो ही एक्शन लेती है।

 

बहरहाल, गुप्ता सुसाइड केस से जुड़ा सारा मामला गुप्ता दरबार यानि डीजीपी दिनकर गुप्ता के दरबार में पहुंच गया है। लिखित जांच की मांग के साथ सुसाइड नोट व काल डिटेल आदि का ब्यौरा भी सौंपा गया है। याद करवा दे कि मुकुल ने करीब माह पूर्व एक होटल में जाकर सुसाइड कर ली थी। मरने से पहले उसने अपनी मां को कहा था कि वो मरने जा रहा है और यह सुनकर परिवार उसे बचाने भी दौड़ा था लेकिन इलाज मिलने से पहले ही उसकी मौत हो गई थी। 

Reader Reviews

Please take a moment to review your experience with us. Your feedback not only help us, it helps other potential readers.


Before you post a review, please login first. Login
Related News
ताज़ा खबर
e-Paper

Readership: 266850